30 C
Patna
December 8, 2019
State News उत्तर प्रदेश

गाँव की लड़की से प्रेम विवाह करने पर पंचायत ने समाज और गाँव से बहिष्कार किया

tughlaki decree wedding boycott

मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश के मुज़फ्फरनगर में गाँव की ही लड़की से प्रेम विवाह रचाने पर पंचायत ने लड़के और उसके परिवार का सामाजिक बहिष्कार करने का फरमान (Tughlaki Decree Wedding Boycott) सुना दिया है। वहीं लड़की के परजनों को कहीं और शादी कराने की सख्त हिदायत दी गयी है। पंचायत ने यह फरमान एक ही गाँव में शादी करने पर सुनाया है। लड़की के बाबा की शिकायत पर पुलिस केस दर्ज कर मामले की जांच में जुट गयी है, प्रेमी जोड़े के नाबालिग होने की वजह से लड़के के माता – पिता पर बाल – विवाह कानून के तहत केस दर्ज किया गया है।

यह भी पढ़ें : – हैवानियत – दो साल की मासूम को पुजारी खींचकर ले गया कमरे में, हालत बिगड़ने पर छोड़ा

प्राप्त जानकारी के मुताबिक़ एक ही गाँव के रहने वाले प्रेमी जोड़े ने भागकर शादी कर ली। जब परिजनों को शादी के बारे में जानकारी मिली तो दोनों की शादी मंदिर में हिन्दू रीती – रिवाज से करा दी। शादी के बाद प्रेमी जोड़ा का डीजे पर डांस करता वीडियो वायरल हुआ तो गांववालों ने पंचायत बुला ली। पंचायत में लड़का ओर उसके परिजनों को गाँव – समाज से बहिष्कार करने का तुगलकी फरमान सुनाया गया। वहीं लड़की के बाबा की शिकायत पर पुलिस ने लड़के के माता पिता के खिलाफ बाल विवाह क़ानून के तहत केस दर्ज कर मामले की जांच कर रही है।

Tughlaki Decree Wedding Boycott

यह भी पढ़ें : – Mouni Roy traditional look मौनी राय के ट्रेडिशनल अवतार ने सोशल मीडिया पर बरपाया कहर

मुजफ्फरनगर जनपद के भौरा कलां थाना इलाके में रहने वाले युवक को युवती से प्यार हो गया, दोनों एक ही कक्षा में पढ़ते थे। एक ही गाँव के होने की वजह से दोनों के परिजन इस शादी के लिए राजी नहीं हुए। बाईट सप्ताह दोनों ने घर से भागकर किसी मंदिर में शादी कर ली। परिजनों को जब इसकी जानकारी हुई तो उन्होंने हिन्दू रीती – रिवाज के अनुसार दोनों की शादी करा दी। शादी के बाद दूल्हा-दुल्हन का डीजे पर डांस करता हुआ वीडियो वायरल होने पर गाँव में पंचायत बुलाई गयी।

यह भी पढ़ें :- महिला का अंतरंग वीडियो गलती से हो गया फेसबुक पर लाइव शर्म से बेटे ने बात करना बंद किया

लड़का लड़की एक ही गाँव से होने की वजह से पंचायत में इस विवाह को अवैध ठहराया गया। पंचों ने लड़के और उसके परिजनों को समाज और गाँव से बहिष्कार करने का फैसला सुनाया। पंचायत के फैसले के बाद से लड़के के घर पर टला लटका हुआ है। इस मामले में पीड़िता ने बताया दोनों बचपन में एक साथ ही पढ़ें जाते थे। इसी दौरान दोनों को एक दूसरे से प्यार हो गया, हमने घरवालों से शादी कराने के लिए भी कहा लेकिन एक ही गाँव के होने की वजह से घरवाले नहीं माने। आखिर में हमने घर से भागकर आर्य मंदिर में शादी रचा ली, घरवालों को पता चलने पर उन्होंने गाँव में हमारी शादी करवा दी। इसी बात को लेकर पंचायत बुलाई गयी जिसमे लोगों के दवाब में आकर मेरे बाबा ने लड़के के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाया।

Loading...

संबंधित ख़बरे

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Loading...