33 C
Patna
August 26, 2019
बिहार

बेबसी – इलाज के लिए पैसे नहीं थे, माँ ने दो मासूम का किया सौदा

poor and helpless mother
इलाज के लिए पैसे नहीं थे , मज़बूरी में अपने जिगर के टुकड़े को बेचने निकल पड़ी, नालंदा के डीएम योगेन्द्र सिंह ने मुफ्त चिकित्सा करने का निर्देश दिया।

नालंदा। (Poor and Helpless Mother) गरीबी और बिमारी से तंग आकर बेबस माँ ने अपने जिगर के टुकड़े को बेचने का फैसला कर लिया। दिल को दहलाने वाली खबर बिहार के नालंदा जिले से आयी है। खबरों के अनुसार लगातार बीमार रहने की वजह से पति ने साथ छोड़ दिया, इलाज के लिए पैसे जुटाने के लिए एक माँ अपने दो मासूम बच्चों को बेचने निकल पड़ी। इसकी खबर मिलते ही नालंदा के डीएम योगेन्द्र सिंह ने तत्काल कार्रवाई करते हुए सदर अस्पताल अधीक्षक को महिला की मुफ्त चिकित्सा करने का निर्देश दिया है।

यह भी पढ़ें : – Wife के कैरेक्टर पर शक था तो 5 साल के बेटे का गला पत्थर काटने वाली मशीन से रेत दिया

Poor and helpless mother

इसके पहले महिला का इलाज कल्याणबीघा रेफरल अस्पताल में चल रहा था। लेकिन बेहतर चिकित्सा के लिए उसे सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया था। फिलहाल डीएम के निर्देशानुसार महिला को पावापुरी मेडिकल कॉलेज शिफ्ट कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें : – पटना में सेक्स रैकेट का पर्दाफ़ाश, नाबालिग लडकियां बड़े लोगों को भेजी जाती थी

प्राप्त जानकारी के अनुसार महिला का मायके पटना है। महिला ने दो शादी की है पहले पति सुमन्त कुमार की मौत शादी के कुछ दिनों बाद ही हो गयी पहले पति से एक बेटी भी है। फिर दूसरी शादी संजय मांझी से की जिससे एक बेटा है। महिला (सोनम) को इस साल की शुरुआ में टीबी बिमारी का पता चला। बिमारी के बारे में पति को बताने पर वह इलाज करने की बजाये उसे छोड़कर चला गया। पति को लेकर जानकारी सामने आयी है की वह दूसरी शादी के फिराक में है।

यह भी पढ़ें : – हैवानियत – पत्नी का गर्दन काट एक हाथ में सिर दूसरे में चाक़ू लेकर घूमता रहा पति

टीबी से पीड़ित महिला के पास इलाज के लिए पैसे नहीं थे, महिला ने बताया की उसके पास इतने पैसे भी नहीं है की वह अपने दो मासूम बच्चों का पालन पोषण कर सके। इलाज के लिए कई जगह मदद की गुहार भी लगाई लेकिन कहीं से मदद नहीं मिलने पर उसने दोनों बच्चों को बेचने का फैसला किया। समुचित इलाज नहीं मिल पाने की वजह से महिला की ज़िन्दगी का भरोसा नहीं रहा था वह मरने से पहले अपने बच्चों को किसी सुरक्षित हाथ में सौंप देना चाहती थी। हालांकि यह बात पत्रकारों के द्वारा डीएम तक पहुँच गयी और उन्होंने महिला के इलाज की व्यवस्था की।

Loading...

संबंधित ख़बरे

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy