30 C
Patna
December 8, 2019
State News बिहार

पटना की हवा हुई जहरीली, देश में सबसे ख़राब मुजफ्फरपुर दूसरे स्थान पर

Patna air quality

पटना। ठंढ की दस्तक पड़ते ही बिहार के शहरों में वायु प्रदुषण (Air Pollution) खतरनाक स्तर पर पहुँच गया है। मंगलवार को लगातार दूसरे दिन पटना की हवा पुरे देश में सबसे ज़्यादा जहरीली रही, इस मामले में मुजफ्फरपुर दूसरे नंबर पर रहा। ठंढ की वजह से हवा में नमी और कोहरे के कारण पीएम 2.5 का स्तर बढ़ गया है। वहीं राजधानी दिल्ली और आसपास के शहरों में पहले की तुलना में वायु प्रदूषण (Patna air quality) में कमी आयी है।

यह भी पढ़ें : – प्याज की माला पहनकर विधानसभा पहुंचे राजद नेता, बढ़ती कीमतों के विरोध में अपनाया अनूठा तरीका

राजधानी पटना में सर्दी शुरू होते ही शहर की हवा जहरीली होती जा रही है, बिहार राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद की रिपोर्ट के अनुसार बुधवार को भी पटना की हवा में प्रदुषण के स्तर में कोई कमी नहीं आयी है। इसकी वजह गंगा नदी की धारा का शहर से दूर होना बताया जा रहा है। मंगलवार को पटना की हवा पुरे देश में सबसे ज़्यादा प्रदूषित पायी गयी थी। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा जारी किये गए रिपोर्ट के अनुसार AQI (वायु गुणवत्ता सूचकांक) में पटना में पीएम 2.5 का स्तर 4.6 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर रिकॉर्ड किया गया। वहीं मुजफ्फरपुर में 405 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर रिकॉर्ड किया गया जो देश में दूसरे स्थान पर रहा।

Patna air quality

यह भी पढ़ें : – जयमाल के दौरान हर्ष फायरिंग में वीडियोग्राफर को लगी गोली, लाश को लगाया ठिकाने

रिपोर्ट के अनुसार पटना में वायु प्रदुषण की मुख्य वजह गंगा नदी की धारा का शहर से दूर होना बताया जा रहा है। गंगा की धारा दूर होने की वजह से दीघा घात से लेकर काली घात तक सिर्फ बालू ही दिखता है। हिमालय की और से आने वाली हवाएं अपने साथ शहर में बालू भी उड़ाकर लाती है। जिसकी वजह से पटना की वायु गुणवत्ता में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। सरकार ने इसे रोकने के लिए बालू उत्खनन पर रोक भी लगाया, लेकिन खुले में ट्रांसपोर्टेशन की वजह से समस्या जस की तस बनी हुई है। साथ ही शहर की सडकों पर कबाड़ हो चुकी गाड़ियां भी बेरोकटोक दौड़ रही है, जो वायु प्रदुषण के प्रमुख कारकों में से एक है।

बिहार राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने प्रदुषण (Patna air quality) को कम करने के लिए रेत पर हरित पट्टी लगाने की योजना बनायी थी। लेकिन पैसों के अभाव में वह योजना भी कागजों पर सिमट गयी है।

Loading...

संबंधित ख़बरे

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Loading...