34 C
Patna
August 26, 2019
क्रिकेट मुख्य समाचार

धोनी को युवाओं के लिए जगह खाली कर देना चाहिए – गौतम गंभीर

gautam gambhir on ms dhoni retirement
धोनी ने कहा था सहवाग सचिन एक साथ नहीं खेल सकते, धोनी को संन्यास लेकर अब युवाओं को मौका देना चाहिए इमोशनली न होकर व्यावहारिक फैसले का वक्त है ये।

क्रिकेट। वर्ल्ड कप में अपनी धीमी बल्लेबाजी की वजह से आलोचनाओं का शिकार हो रहे पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के संन्यास को लेकर गौतम गंभीर ने अपनी राय (Gautam Gambhir on MS Dhoni Retirement) रखी है। वेस्टइंडीज दौरे के लिए 20 अगस्त को भारतीय टीम का चयन होना है लेकिन महेंद्र सिंह धोनी को टीम में शामिल करने को लेकर अभी भी संशय बरकरार है। 38 वर्ष के धोनी ने इस वर्ल्ड कप में 273 रन बनाये थे परन्तु इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 90 का ही रहा। अहम् मौकों पर जब टीम को तेज रन चाहिए थे तब धोनी बड़े शॉट खेलने में संघर्ष करते नज़र आये थे। इस वजह से कई पूर्व दिग्गज बल्लेबाजों ने धोनी को संन्यास लेने की भी सलाह दी थी।

यह भी पढ़ें : – इनके मदद के बिना रोहित एक भी शतक नहीं लगा पाते। जानिये कौन है वो जिसने 4 शतक लगाने में रोहित की मदद की

जब धोनी ने कहा सहवाग और सचिन एक साथ नहीं खेल सकते

धोनी के संन्यास को लेकर पूर्व ओपनर गौतम गंभीर ने अपनी राय रखते हुए कहा – धोनी को लेकर व्यावहारिक फैसले लेने का वक्त आ गया है। इमोशनली ना होकर व्यवहारिक रूप से सोचना होगा धोनी अभी 38 साल के हैं निश्चित रूप से वह अगले वर्ल्ड कप की योजनाओं का हिस्सा नहीं होंगे। चयनकर्ताओं को धोनी से संन्यास पर बात करनी चाहिए और भविष्य के लिए युवा विकेटकीपरों को आजमाया जाना चाहिए। ताकि वह अगले विश्वकप से पहले खुद को तैयार कर सके।

यह भी पढ़ें : – धोनी के आउट पर छिड़ा विवाद अम्पायर के फैसले पर भड़के क्रिकेट फैंस

गंभीर ने खुलासा करते हुए कहा धोनी ने ऑस्ट्रेलिया में सीबी सीरीज में कहा था सचिन और सहवाग एक साथ टीम में नहीं खेल सकते वह फिल्ड पर सुस्त हैं। हमे अगले विश्वकप के लिए युवाओं को मौका देना चाहिए उसी के तहत सौरव गांगुली टीम से बाहर हुए थे। व्यावहारिक फैसलों की वकालत करने वाले धोनी अपने संन्यास पर चुप हैं मुझे हैरानी हो रही है।

यह भी पढ़ें : – भारतीय खिलाड़ी ने क्रिकेट से लिया संन्यास वर्ल्ड कप में नहीं चुने गए थे, आईपीएल भी नहीं खेलेंगे

टीम की सफलता के लिए धोनी को श्रेय देना सही नहीं

आगे गौतम गंभीर ने कहा महेंद्र सिंह धोनी बेशक भारतीय टीम के सर्वश्रेष्ठ कप्तान हैं लेकिन टीम की सफलता के लिए सिर्फ उन्हें श्रेय देना गलत होगा। एक टीम की सफलता में सभी खिलाड़ियों का बराबर का योगदान होता है। कागजों पर बेशक वह सर्वश्रेष्ठ कप्तान दिखेंगे लेकिन इसका मतलब यह नहीं है की दूसरे कप्तान खराब हैं। सौरव गांगुली के नेतृत्व में टीम ने विदेशों में जितना शुरू किया। कोहली का भी कप्तान के रूप में प्रदर्शन असाधारण है।

Loading...

संबंधित ख़बरे

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy