30 C
Patna
September 23, 2019
देश मुख्य समाचार राजनीती

तीन तलाक “कुप्रथा” भारतीय लोकतंत्र पर सबसे बड़ा धब्बा – अमित शाह

amit shah statement on triple talaq
अमिता शाह का तीन तलाक पर बड़ा बयान , भारतीय लोकतंत्र का सबसे बड़ा धब्बा है। कांग्रेस के तुष्टिकरण की नीति को ख़त्म करने में 56 साल लग गए।

नई दिल्ली। गृह मंत्री अमित शाह ने तीन तलाक को लेकर बड़ा बयान (Amit Shah Statement on Triple Talaq) दिया है। दिल्ली के कॉन्स्टिट्यूशन क्लब में रविवार को एक कार्यक्रम में अमित शाह ने कहा कुछ राजनितिक दलों के वोट बैंक के लालच की वजह से यह “कुप्रथा” इतने दिनों तक चलती रही। राजनितिक दलों ने विशेष वर्ग के तुष्टिकरण की राजनीति अपना ली थी। लेकिन वोट लेने के लिए तुष्टिकरण की राजनीति जरुरी नहीं होती है। हमे गरीबों को साथ लेकर चलना होता है, गरीब किसी भी धर्म का हो सकता है।

यह भी पढ़ें : – 3 सगे भाई बहन की तालाब में डूबने से हुई मौत, 12 घंटे बाद मिला शव

Amit Shah Statement on Triple Talaq

विशेष वर्ग के तुष्टिकरण ही भारत के विभाजन का कारण बना था। वोट बैंक बनाने के चक्कर में उनके विकास पर ध्यान नहीं दिया गया। मुख्यधारा में लाने के लिए गरीबों का विकास बेहद जरुरी है। जनता भी तुष्टिकरण की राजनीति से ऊब गयी थी वह भी विकास चाहती थी। उसी का नतीजा था की जनता ने इस बार पूर्ण बहुमत के साथ मोदीजी को फिर से प्रधानमन्त्री बनाया।

यह भी पढ़ें : – शिक्षा विभाग की वेबसाइट हुई हैक, हैकर ने I Love You Pakistan लिखा

अगर एनडीए के पास पूर्ण बहुमत नहीं होता तो हम कभी भी तीन तलाक जैसी “कुप्रथा” को ख़त्म नहीं कर पाते। लोग कहते हैं की तीन तलाक शरीयत का हिस्सा है, अगर ऐसा है तो दुनिया के मुस्लिम देश इस कुप्रथा को क्यों हटाते। हमें कांग्रेस के तुष्टिकरण राजनीति को ख़त्म करने में 56 साल लग गए। अगर हम अभी भी इस कुप्रथा को ख़त्म नहीं करते तो यह भारतीय लोकतंत्र पर सबसे बड़ा धब्बा होता।

यह भी पढ़ें : – मिनी स्कर्ट पहनने पर मीरा राजपूत हुई ट्रोल, लोगों ने कहा बेटी की ड्रेस पहन ली

शाह बानो ने तीन तलाक के खिलाफ कोर्ट गयी थी, कोर्ट ने भी इसे असंवैधानिक माना था। शायरा बानो ने स्पीड पोस्ट से तलाक दिए जाने को लेकर कोर्ट में गयी थी। आखिर में सुप्रीम कोर्ट ने भी तीन तलाक को गैर-संवैधानिक और गैर-इस्लामिक माना।

Loading...

संबंधित ख़बरे

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy