30 C
Patna
September 23, 2019
देश नई दिल्ली मुख्य समाचार

गिरती अर्थव्यवस्था पर मनमोहन सिंह ने पीएम मोदी पर साधा निशाना

manmohan singh suggests modi sarkar
मनमोहन सिंह ने कहा मोदी सरकार के कुप्रबंधन की वजह से यह मंदी आई है, पीएम मोदी को को मंदी से उबरने के लिए दिए सुझाव।

नई दिल्ली। वैश्विक आर्थिक सुस्ती की वजह से भारत की गिरती जीडीपी को लेकर पूर्व प्रधानमन्त्री मनमोहन सिंह ने मौजूदा मोदी सरकार को कठघरे में खड़ा किया है। मनमोहन सिंह ने भारत की गिरती अर्थव्यवस्था के लिए मोदी सरकार के कुप्रबंधन को जिम्मेदार ठहराया (Manmohan Singh suggests Modi Sarkar) है। जीडीपी में लगातार तेज गिरावट की वजह से मोदी सरकार विपक्ष के निशाने पर है। अर्थव्यवस्था की मौजूदा स्थिति पर मनमोहन सिंह ने चिंता व्यक्त की है। उन्होंने सीधे तौर पर नोटबंदी और जीएसटी को भारत की गिरती जीडीपी का कारण बताया।

यह भी पढ़ें : – आर्थिक मंदी से बचने के लिए सरकार ने टैक्स सरचार्ज में बढ़ोतरी वापस ली

Manmohan Singh suggests Modi Sarkar

मनमोहन सिंह ने मौजूदा आर्थिक हालात को चिंताजनक बताया है। साथ ही कहा भारत में काफी तेज गति से बढ़ने की क्षमता है लेकिन मोदी सरकार के कुप्रबन्धन की वजह से देश में मंदी जैसे हालात पैदा हो गए हैं। 5% की वृद्धि दर बता रही है की दीर्घकालीन सुस्ती के दौर में हैं। मोदी सरकार द्वारा अचानक से नोटबंदी और जीएसटी को लागू करने से हमारी इकोनॉमी को जो क्षति पहुंची, उससे अभी भी हम उबर नहीं पाए हैं।

यह भी पढ़ें : – नाबालिग के साथ गैंगरेप, पंचायत ने पीड़िता के सिर के बाल मुंडवाकर पुरे गाँव घुमाया

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गर्वनर रह चुके मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार से अपील की है की वह प्रतिशोध की राजनीति त्याग कर अर्थव्यवस्था को मंदी के दौर से बहार निकालने का प्रयास करे। मोदी सरकार की गलत नीतियों की वजह से आज युवाओं के पास रोजगार नहीं हैं। आपको बता दें की देश की आर्थिक वृद्धि पिछले सात साल के न्यूनतम स्तर घटकर पांच प्रतिशत पर पहुँच गयी है। एक साल पहले आर्थिक वृद्धि दर आठ प्रतिशत के उच्च स्तर पर थी। इसके पहले 2012-13 में आर्थिक वृद्धि दर अपने न्यूनतम स्तर 4.9 प्रतिशत पर रही थी

Loading...

संबंधित ख़बरे

Leave a Comment

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy