30 C
Patna
October 17, 2019
धर्म

Saraswati puja 2019: आज इस तरह करें सरस्वती पूजा, जानें मंत्र और पूरी पूजा विधि

Basant panchami 2019, vasant panchami 2019, basant panchami puja, basant panchami saraswati puja mantra, saraswati puja vidhi, vasant panchami puja vidhi, goddess saraswati, Basant Panchami Shubh Muhurat, When is Basant Panchami Saraswati Vandana, Saraswati path, Saraswati puja, When is Basant Panchami Saraswati Vandana, Saraswati path, Saraswati puja,बसंत पंचमी 2019, सरस्वती पूजा, सरस्वती पूजा विधि, सरस्वती पूजा मंत्र, सरस्वती पूजा कैसे करें, सरस्वती पूजा मंत्र, सरस्वती पूजा, सरस्वती पूजा विधि, वसंत पंचमी, वसंत पंचमी कब है, बसंत पंचमी, बसंत पंचमी 2019, बसंत पंचमी शुभ मुहूर्त, बसंत पंचमी कब है, बसंत पंचमी सरस्वती वंदना, सरस्वती पाठ, सरस्वती स्त्रोत, सरस्वती पूजा 2019,Hindi News, News in Hindi, hindlives news

आज पूरे देश में वसंत पंचमी (Basant Panchami) का त्योहार मनाया जा रहा है। पंचमी तिथि शनिवार 9 फरवरी को दिन में 8 बजकर 55 मिनट से लग रही है, जो रविवार 10 फरवरी को दिन में 9 बजकर 59 मिनट तक रहेगी। उदया तिथि ग्राह्य होने से 10 फरवरी को ही वसंत पंचमी मनाई जाएगी।

इस दिन मां सरस्वती की पूजा का विशेष दिन माना जाता है और मां सरस्वती ही बुद्धि और विद्या की देवी हैं। मान्यता है कि जिस छात्र पर मां सरस्वती की कृपा हो उसकी बुद्धि बाकी छात्रों से अलग और बहुत ही प्रखर होती है। 

सरस्वती पूजा विधि और मंत्र 

मां सरस्वती की प्रतिमा अथवा तस्वीर को सामने रखकर उनके सामने धूप-दीप, अगरबत्ती, गुगुल जलाएं जिससे वातावरण में सकारात्मक उर्जा का संचार हो और आसपास से नकारात्मक ऊर्जा दूर हो जाएगी। 

प्रात:काल स्नानादि कर पीले वस्त्र धारण करें. मां सरस्वती की प्रतिमा को सामने रखें तत्पश्चात क्लश स्थापित कर भगवान गणेश और नवग्रह की विधिवत पूजा करें. फिर मां सरस्वती की पूजा करें. मां की पूजा करते समय सबसे पहले उन्हें आचमन और स्नान कराएं. फिर माता का श्रृंगार कराएं. माता श्वेत वस्त्र धारण करती हैं इसलिए उन्हें श्वेत वस्त्र पहनाएं. प्रसाद के रुप में खीर अथवा दूध से बनी मिठाईयां अर्पित करें. श्वेत फूल माता को अर्पण करें.

कुछ क्षेत्रों में देवी की पूजा कर प्रतिमा को विसर्जित भी किया जाता है. विद्यार्थी मां सरस्वती की पूजा कर गरीब बच्चों में कलम और पुस्तकों का दान करें. संगीत से जुड़े व्यक्ति अपने साज पर तिलक लगा कर मां की आराधना करें व मां को बांसुरी भेंट करें.

इस मंत्र से प्रसन्न होंगी मां सरस्वती 
”एमम्बितमें नदीतमे देवीतमे सरस्वति! अप्रशस्ता इव स्मसि प्रशस्तिमम्ब नस्कृधि! ”
अर्थात – मातृगणो में श्रेष्ठ, देवियों में श्रेष्ठ हे ! मां सरस्वती हमें प्रशस्ति यानी ज्ञान, धन व संपति प्रदान करें।

यदि पूर्व में दिए मंत्र को पढ़ने में परेशानी हो तो इस सरल मंत्र को पढ़कर मां सरस्वती को प्रसन्न कर ज्ञान का आशीर्वाद प्राप्त करें।

सरस्वति नमस्तुभ्यं वरदे कामरूपिणि ।
विद्यारम्भं करिष्यामि सिद्धिर्भवतु मे सदा ॥

Loading...

संबंधित ख़बरे

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Loading...